ISLAM SOME FACTS

 

इस्‍लाम धर्म 

ISLAM RELIGION

 

इस्‍लाम धर्म से जुड़े महत्‍वपूर्ण तथ्‍य:

(1) हजरत मुहम्मद इस्लाम धर्म के संस्थापक थे.
(2) हजरत मुहम्मद का जन्म 570 ई. में मक्का में हुआ था.
(3) हजरत मुहम्मद को 610 ई. में मक्का के पास हीरा नाम की गुफा में ज्ञान की प्राप्ति हुई थी.

ISLAM SOME FACTS

(4) हजरत मुहम्मद की शादी 25 साल की उम्र में खदीजा नाम की विधवा से हुई.PM GARIB KALYAN ANNA YOJNA

(5) हजरत मुहम्मद की बेटी का नाम फतिमा और दामाद का नाम अली हुसैन है.
(6)   24 सिंतबर को पैगंबर की मक्का से मदीना की यात्रा इस्लाम जगत में मुस्लिम संवत के नाम से जानी जाती है.
(7) देवदूत ग्रैब्रियल ने पैगम्‍बर मुहम्मद को कुरान अरबी भाषा में संप्रेषित की.

(8) कुरान इस्लाम धर्म का पवित्र ग्रंथ है.

(9) पैगंबर मुहम्मद ने कुरान की शिक्षाओं का उपदेश दिया.

(10) हजरत मुहम्मद की मृत्यु 8 जून 632 ई. को हुई. इन्हें मदीना में दफनाया गया.

(11) हजरत मुहम्मद की मृत्यु के बाद इस्लाम शिया और सुन्नी दो पंथों में बंट गया.

(12) सुन्नी उन्हें कहते हैं जो सुन्ना में विश्वास रखते हैं. सुन्ना हजरत मुहम्मद के कथनों और कार्यों का विवरण है.

(13) शिया अली की शिक्षाओं में विश्वास रखते हैं और उन्हें हजरत मुहम्मद का उत्तराधिकारी मानते हैं. अली, हजरत मुहम्मद के दामाद थे.

(14) अली की सन 661 में हत्या कर दी गई थी. अली के बेटे हुसैन की हत्या 680 में कर्बला में की गई थी. इन हत्याओं ने शिया को निश्चित मत का रूप दे दिया.
Tableeg-E-Jamat
(15) हजरत मुहम्मद के उत्तराधिकारी खलीफा कहलाए.

(16) इस्लाम जगत में खलीफा पद 1924 ई. तक रहा. 1924 में इसे तुर्की के शासक मुस्तफा कमालपाशा ने खत्म कर दिया.

(17) इब्‍न ईशाक ने सबसे पहले हजरत मुहम्मद का जीवन चरित्र लिखा था.

(18) हजरत मुहम्मद के जन्मदिन को ईद-ए-मिलाद-उन-नबी के नाम से मनाया जाता है.

 

सभी अरबी मुस्लिम नहीं हैं। अरबी लोग ईसाई, बौद्ध, यहूदी, एथेस्ट भी हैं। फिर भी इन्डोनेशिया में मुस्लिम आबादी ज्यादा है।

ISLAM SOME FACTS

मुस्लिम लोग मोहम्मद और मक्का की पूजा नहीं करते

मोहम्मद साहब इस्लाम के अंतिम धर्मगुरु हुये। उनका आदर सबके मन में हैं लेकिन उनकी पूजा नहीं की जाती है। यदि अल्लाह के अलावा कोई किसी और की पूजा करता है तो उसे पाप समान समझा जाता है जिसे शिर्क कहा जाता है। मक्का और मोहम्मद दोनों को इस्लाम में बहुत माना जाता है लेकिन उनकी पूजा नहीं की जाती है।

अल्ला-हु-अकबर डरने का शब्द नहीं है

अल्ला-हु-अकबर का मतलब है ‘अल्लाह महान है’। मुस्लिम लोग अपने दुख-दर्द और चिंताएँ मिटाने के लिए ऐसा कहते हैं। जो व्यक्ति मुसलमान नहीं है वह इसका अर्थ लगा सकता है कि ‘ईश्वर महान है’।

सभी मुस्लिम महिलाएं हिजाब नहीं पहनती

बुरखा या हिजाब का मतलब सिर्फ अपने आप को ढ़कना है। मुस्लिम महिला के लिए बुरखा पहनना अनिवार्य नहीं है, वे अन्य ढीले और मॉडर्न परिधान भी पहन सकती हैं। बस आपके शरीर का कोई हिस्सा दिखना नहीं चाहिए।

इस्लाम में शराब और स्मोकिंग क्यों बंद है

इसका कारण है कि एल्कोहल और शराब एक धीमा जहर है और इस्लाम में आत्महत्या वर्जित है। जो भी आपको मार सकती है इस्लाम उसकी आज्ञा नहीं देता है। इसके साथ इन चीजों के सेवन के बाद व्यक्ति बुरे काम भी करता है।

दूसरा बड़ा धर्म

इस्लाम दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा और तेजी से बढ़ता हुआ धर्म है, 2050 तक यह ईसाई धर्म के बराबर हो जाएगा।

मैरी

मैरी या मरियम का नाम जितना बाईबल में लिया गया है उससे कहीं ज्यादा कुरान में लिया गया है।

 

 

CORONA – A DANGEROUS ATTACK

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Comment